निफ्टी की दशा-दिशा [बुधवार 17 अक्टूबर 2018] शुरुआती रुख⬆⬆ सुबह: 8.10 बजे

पिछला बंद कल का उच्चतम कल का न्यूनतम कल का बंद संभावित दायरा
10512.50 10604.90 10525.30 10584.75 10615/10725

 

अनिल रघुराज

बाज़ार है उठता-गिरता लहरों की तरह

 Posted by at 08:18  Comments Off on बाज़ार है उठता-गिरता लहरों की तरह
Oct 172018
 

हम कहीं न कहीं मानकर बैठे हैं कि शेयर बाज़ार बराबर सीधी रेखा में चलता है। इसलिए कहां तक जाएगा, इसका अनुमान ट्रेन्ड-लाइन खींचकर लगाया जा सकता है। लेकिन हकीकत यह है कि शेयर बाज़ार सीधी रेखा में नहीं, बल्कि हमेशा लहरों में चलता है। बढ़ता या गिरता है तो लहरों की शक्ल में। अगर […]

अनाप-शनाप बातों पर शक्ति व समय

 Posted by at 08:23  Comments Off on अनाप-शनाप बातों पर शक्ति व समय
Oct 162018
 

हम शेयर बाज़ार में इसीलिए गच्चा खाते हैं क्योंकि जो हमारे वश में है, उन्हीं पर ध्यान न देकर हम अनाप-शनाप बातों पर शक्ति और समय बरबाद करते हैं। पूछते और चैनलों पर देखते फिरते हैं कि बाज़ार आगे कहां जाएगा। यह फालतू सवाल है। इसका सही जवाब मिलना भी असंभव है। हां, इतिहास गवाह […]

अपना रुख, अपनी चाल हमारे वश में

 Posted by at 08:20  Comments Off on अपना रुख, अपनी चाल हमारे वश में
Oct 152018
 

शेयर बाज़ार निकट-भविष्य में कहां जाकर किधर थमेगा, यह हम-आप ही नहीं, कोई बड़े से बड़ा विद्वान या बाज़ार का उस्ताद भी नहीं बता सकता। शेयर बाजार पर फिलहाल जो साढ़े-साती लगी है, उन अनिश्चितताओं का भी हम कुछ बना-बिगाड़ नहीं सकते। इन पर हमारा कोई वश नहीं। लेकिन दो बातें हमारे वश में हैं। […]

कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से

 Posted by at 13:23  Comments Off on कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से
Oct 142018
 
कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से

अगस्त अंत से चालू अक्टूबर महीने के पहले हफ्ते तक बीएसई में लिस्टेड 2733 कंपनियों में से 688 कंपनियों के शेयर 52 हफ्ते के शीर्ष से 61% से ज्यादा, 495 के शेयर 51-60%, 485 के 41-50%, 440 के 31-40%, 342 के 21-30% और 171 के शेयर 11-20% गिर चुके हैं। इनमें से कुछ को खराब […]

बाज़ार को पकड़ना हमारे वश में नहीं

 Posted by at 08:20  Comments Off on बाज़ार को पकड़ना हमारे वश में नहीं
Oct 122018
 

बाज़ार ऐसे कारणों से गिरता जा रहा है जो हमारे हाथ से बाहर हैं। जिस साढ़े-साती का जिक्र हमने किया, उसकी साढ़े सात अनिश्चितताएं रातों-रात नहीं खत्म होने जा रहीं। बाज़ार का गिरना कतई थम नहीं रहा। एक दिन पटरी पर आता दिखा बाज़ार अगले ही दिन पटरी से उतर जाता है। उसे रोकना हमारे […]