निफ्टी की दशा-दिशा [शुक्रवार 21 अप्रैल 2017] अंतिम रुख⬇ शाम: 3.30 बजे

पिछला बंद शुक्र का उच्चतम शुक्र का न्यूनतम शुक्र का बंद वास्तविक दायरा
9136.40 9183.65 9088.75 9119.40 9085/9185

तथास्तु

यह शेयर बाज़ार में लंबे समय के निवेश की सेवा है।

बिजनेस दमदार तो होगा बेड़ा पार

 Posted by at 06:45  Comments Off on बिजनेस दमदार तो होगा बेड़ा पार
Apr 232017
 

तमाम विशेषज्ञ कहते हैं कि स्मॉल-कैप कंपनियों में निवेश बचकर करना चाहिए क्योंकि वे बहुत रिस्की होती हैं। लेकिन रिस्की होती हैं, तभी तो ज्यादा रिटर्न देती हैं। असल बात है कि कंपनी छोटी हो या बड़ी, अगर उसका बिजनेस दमदार है और आपको उसकी प्रगति पर यकीन है तो उसके शेयर का देर-सबेर बढ़ना […]

दिया वो कीमत, मिला वो मूल्य

 Posted by at 14:20  Comments Off on दिया वो कीमत, मिला वो मूल्य
Apr 162017
 

शेयर बाज़ार का निवेश कोई सोना नहीं कि लेकर रख लिया जो मुसीबत में काम आएगा। शेयरों में हम निवेश रिटर्न के लिए करते हैं। जिस भाव पर उसे खरीदते हैं, वो उसकी कीमत और जो मिलता है वो उसका मूल्य। 100 का मूल्य अगर 80 के भाव पर खरीदेंगे तो 25% रिटर्न और 87 […]

बंद हो जाए बाज़ार तो फर्क नहीं

 Posted by at 09:05  Comments Off on बंद हो जाए बाज़ार तो फर्क नहीं
Apr 092017
 

हेज-फंडों के निवेश की खास स्टाइल है। वे वहां निवेश करते हैं जहां संभावना होती है, मगर किस का ध्यान नहीं होता। अपने बाज़ार में भी ऐसी बहुतेरी लिस्टेड कंपनियां हैं, खासकर बीएसई में। धंधा जमा-जमाया है और बढ़ भी रहा है। फिर भी निवेशकों की नज़र में चढ़ती नहीं। ऐसी कंपनियां उनके लिए बड़ी […]

दायरे से बढ़े धंधा और रिस्क भी

 Posted by at 13:47  Comments Off on दायरे से बढ़े धंधा और रिस्क भी
Apr 022017
 

धंधा बढ़ाने के लिए दायरा बढ़ाना पड़ता है और दायरा बढ़ने से रिस्क या अनिश्चितता बढ़ जाती है। लेकिन इस डर से कोई दुबक कर नहीं बैठ जाता। बड़ी-बड़ी कंपनियां भी और ज्यादा बढ़ने के लिए दायरा बढ़ाती हैं। ग्लोबीकरण के बाद तो अपनी आईटी और दवा कंपनियों ने कुछ ज्यादा ही छलांग लगा दी। […]

बबूल के जंगल में जैसे हो चंदन!

 Posted by at 06:00  Comments Off on बबूल के जंगल में जैसे हो चंदन!
Mar 262017
 

जंगल को देखना और पेड़ों का न देखना, यह तरीका आम जीवन के लिए सही नहीं होता। निवेश में तो यह कतई कारगर नहीं। मसलन, इस समय एनएसई निफ्टी 23.65 और बीएसई सेंसेक्स 22.45 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है, जबकि बीएसई स्मॉलकैप सूचकांक 64.81 के पी/ई अनुपात पर। इससे कोई भी निष्कर्ष […]

चढ़े बाज़ार में दबी कई संभावनाएं

 Posted by at 11:37  Comments Off on चढ़े बाज़ार में दबी कई संभावनाएं
Mar 192017
 

भारतीय शेयर बाज़ार इस वक्त ऐतिहासिक ऊंचाई पर है। निफ्टी-50 सूचकांक फिलहाल 23.78 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है। पिछले बीस सालों में केवल नौ बार यह सूचकांक 22 से ज्यादा पी/ई पर ट्रेड हुआ है और इनमें से पांच बार वो अगले दो सालों में गिर गया है। इसलिए अभी के बाज़ार […]

होली का रंग निखरे और धन का!

 Posted by at 13:05  Comments Off on होली का रंग निखरे और धन का!
Mar 122017
 

होली का रंग हर साल निखरता है। लेकिन धन का रंग हर साल उड़ता क्यों जाता है? वजह साफ है कि होली को हमारी खुशियों की तमन्ना का साथ मिलता है, जबकि धन को मुद्रास्फीति या हमारा गलत निवेश खोखला कर देता है। धन को अगर अच्छे बिजनेस या अच्छा बिजनेस करती कंपनी में लगाया […]

मिथकों की भंवर में न फंसें कभी

 Posted by at 13:12  Comments Off on मिथकों की भंवर में न फंसें कभी
Mar 052017
 

कहते हैं कि लंबे समय का निवेश फलदायी होता है। यह भी मानते हैं कि स्मॉल-कैप कंपनियां कई गुना रिटर्न देती हैं। पर, बीएसई स्मॉल-कैप सूचकांक 31 दिसंबर 2007 से 3 मार्च 2017 के बीच 13,348.37 से महज 2.03% बढ़कर 13,620.17 पर पहुंचा है। यानी, इस सूचकांक में दस साल पहले लगाए गए आपके 100 […]

जोखिम से उपलब्धि की यात्रा तक

 Posted by at 12:39  Comments Off on जोखिम से उपलब्धि की यात्रा तक
Feb 262017
 

जीवन में हमेशा बहुत कुछ नया होता रहता है। इसी तरह अर्थव्यवस्था में भी बहुत कुछ नया और अच्छा होता रहता है। सरकार कुछ करे या करे, उद्यमी अपनी धुन में कुछ न कुछ नया रचते रहते हैं। समझदार निवेशक को हमेशा ऐसे उभरते उद्यमियों और उनकी कंपनियों पर नज़र रखनी चाहिए ताकि वे अपनी […]

दुष्चक्र तोड़ें तो अवसर हैं बेइंतेहा

 Posted by at 11:52  Comments Off on दुष्चक्र तोड़ें तो अवसर हैं बेइंतेहा
Feb 192017
 

समृद्धि बढ़ने से खपत का स्तर बढ़ता है और बिजनेस के नए-नए अवसर बनते जाते हैं। देश की अर्थव्यवस्था बढ़ती जाती है। कुछ उद्यमी इतने तेज़ होते हैं कि वे देश की नहीं, विदेश तक के अवसरों को पकड़ लेते हैं। लेकिन कई उद्योग ऐसे हैं जिन्हें जीवन की तरह उतार-चढ़ाव के चक्र से गुजरना […]