निफ्टी की दशा-दिशा [बुधवार 21 नवंबर 2018] शुरुआती रुख⬇ सुबह: 8.10 बजे

पिछला बंद कल का उच्चतम कल का न्यूनतम कल का बंद संभावित दायरा
10763.40 10740.85 10640.85 10656.20 10605/10695

 

तथास्तु

यह शेयर बाज़ार में लंबे समय के निवेश की सेवा है।

हानिकारक होते हैं वेल्थ मैनेजर!

 Posted by at 07:05  Comments Off on हानिकारक होते हैं वेल्थ मैनेजर!
Nov 182018
 
हानिकारक होते हैं वेल्थ मैनेजर!

तमाम बैंक वेल्थ मैनेजमेंट की बात करते हैं। वे बड़े ग्राहकों के लिए वेल्थ या रिलेशनशिप मैनेजर तक तय कर देते हैं। लेकिन हकीकत में ऐसे वेल्थ मैनेजर ग्राहकों की दौलत बढ़ाने के बजाय बैंकों का ही धंधा बढ़ाने का काम करते हैं। ऐसा वे ग्राहकों के हितों की कीमत पर करते हैं। बैंक के […]

घबराहट में बेचना सरासर गलत

 Posted by at 12:32  Comments Off on घबराहट में बेचना सरासर गलत
Nov 112018
 
घबराहट में बेचना सरासर गलत

कुछ हफ्ते या महीने भर बाद शेयर बाज़ार कहां जाएगा, इसे बता पाना किसी के लिए भी संभव नहीं। हो सकता है कि बाज़ार गिरता जाए या ऊपर चढ़ जाए। पर एक बात गांठ बांध लें कि घबराहट में अपना पोर्टफोलियो खाली नहीं करना चाहिए। अगर आपने किसी कंपनी की मूलभूत मजबूती व संभावना को […]

एकमुश्त नहीं, खरीदें रुक-रुककर

 Posted by at 07:05  Comments Off on एकमुश्त नहीं, खरीदें रुक-रुककर
Nov 042018
 
एकमुश्त नहीं, खरीदें रुक-रुककर

अगस्त के शिखर से गिरने के बाद शेयर बाज़ार में बहुत-सी कंपनियों का मूल्यांकन काफी आकर्षक हो गया है। अभी उनको खरीदना लंबे समय के लिए अच्छा सौदा साबित हो सकता है। लेकिन ऐसा नहीं कि जैसे ही आप खरीदेंगे, वैसे ही वे बढ़ना शुरू कर देंगे। इसलिए इस समय निवेश की सबसे अच्छी रणनीति […]

चक्रवृद्धि का कमाल बनाए दौलत

 Posted by at 12:05  Comments Off on चक्रवृद्धि का कमाल बनाए दौलत
Oct 282018
 
चक्रवृद्धि का कमाल बनाए दौलत

अगर कोई कंपनी ऐसी दिखे जिसके फंडामेंटल मजबूत हैं, प्रबंधन शानदार है, ट्रैक रिकॉर्ड जानदार है, भावी विकास की भरपूर संभावना नज़र आ रही है और शेयर का भाव अभी सुरक्षा का पर्याप्त मार्जिन दे रहा है तो बाज़ार की उठापटक या भीड़ की सोच की परवाह किए बिना हमें उसमें तीन से पांच साल […]

भाव नहीं, पीछा करो मूल्य का

 Posted by at 07:05  Comments Off on भाव नहीं, पीछा करो मूल्य का
Oct 212018
 
भाव नहीं, पीछा करो मूल्य का

जब तक हम शेयरों के भाव के पीछे भागेंगे, तब तक बाज़ार को नहीं पकड़ सकते। वहीं, अगर हम कंपनी के कामकाज व संभावना के आकलन के आधार पर उसके शेयर का अंतर्निहित मूल्य निकालें और उससे भाव की तुलना करें तो बाज़ार को अपनी मुठ्ठी में कर सकते हैं। इसलिए बाज़ार कहां जाएगा, इसका […]

कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से

 Posted by at 13:23  Comments Off on कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से
Oct 142018
 
कुछ कर्मों से, बहुत गिरे तूफान से

अगस्त अंत से चालू अक्टूबर महीने के पहले हफ्ते तक बीएसई में लिस्टेड 2733 कंपनियों में से 688 कंपनियों के शेयर 52 हफ्ते के शीर्ष से 61% से ज्यादा, 495 के शेयर 51-60%, 485 के 41-50%, 440 के 31-40%, 342 के 21-30% और 171 के शेयर 11-20% गिर चुके हैं। इनमें से कुछ को खराब […]

दिवाली का शुभ लाभ, मौके अभी से

 Posted by at 16:30  Comments Off on दिवाली का शुभ लाभ, मौके अभी से
Oct 072018
 
दिवाली का शुभ लाभ, मौके अभी से

महीने भर से गिर रहा शेयर बाज़ार कितना और गिरेगा, कहा नहीं जा सकता। सोमवार, 3 सितंबर से शुक्रवार, 5 अक्टूबर तक बीएसई सेंसेक्स 10.27%, मिडकैप सूचकांक 16.67% और स्मॉलकैप सूचकांक 19.37% गिर चुका है। आशा अब निराशा में बदलने लगी है। ठीक महीने भर बाद दिवाली है। डर है कि इस बार की दिवाली […]

सवाल हैं बहुतेरे, जबाव भी हैं अच्छे

 Posted by at 11:50  Comments Off on सवाल हैं बहुतेरे, जबाव भी हैं अच्छे
Sep 302018
 
सवाल हैं बहुतेरे, जबाव भी हैं अच्छे

लगातार गिरता रुपया, कच्चे तेल व पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते दाम, विदेशी निवेशकों का निकलते जाना। इन प्रतिकूल स्थितियों से घबराया शेयर बाज़ार क्या जल्दी संभल पाएगा? सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं को ऋण देनेवाली आईएल एंड एफएस जैसी बड़ी कंपनी का संकट क्या गुल खिला सकता है? स्मॉंल और मिडकैप कंपनियों के शेयरों का गिरना कब […]

कभी-कभार ही आते हैं ऐसे मौके

 Posted by at 12:34  Comments Off on कभी-कभार ही आते हैं ऐसे मौके
Sep 232018
 
कभी-कभार ही आते हैं ऐसे मौके

दुनिया के सफलतम निवेशक वॉरेन बफेट का यह कहना शेयर बाज़ार का नीति-वाक्य बन चुका है कि जब सभी डर कर बेच रहे हों, तब लालची बन खरीद लेना चाहिए और सभी लालच में फंसे हों, तब बेचकर निकल लेना चाहिए। ऐसा सटीक मौका कभी-कभार ही मिलता है। लेकिन अपने यहां बीते हफ्ते घबराहट में […]

अच्छी कंपनियों की बहती अंतर्धारा

 Posted by at 12:57  Comments Off on अच्छी कंपनियों की बहती अंतर्धारा
Sep 162018
 
अच्छी कंपनियों की बहती अंतर्धारा

इधर बैंकों के एनपीए से लेकर कमज़ोर रुपए, महंगे तेल व आर्थिक फ्रॉड जैसे मुद्दों ने राजनीति को जकड़ लिया है। विकास का नारा धार खो चुका है तो भाजपा हिंदू धर्म और राष्ट्र के नाम पर ध्रुवीकरण करना चाहेगी। लेकिन सतह पर मची इस उथल-पुथल के नीचे अच्छी कंपनियों की अंतर्धारा अनवरत बह रही […]