निफ्टी की दशा-दिशा [सोमवार 19 नवंबर 2018] शुरुआती रुख⬆ सुबह: 8.10 बजे

पिछला बंद शुक्र का उच्चतम शुक्र का न्यूनतम शुक्र का बंद संभावित दायरा
10616.70 10695.15 10631.15 10682.20 10665/10755

 

चुटकी भर टिप्स ।। तथास्तु

शेयर बाजार में ट्रेडिंग की सीख और हर दिन चुनिंदा शेयरों में ट्रेडिंग की टिप्स। टेक्निकल एनालिसिस का आधार, संस्थागत निवेशकों के सौदों को पहले से पकड़ने की डिमांड/सप्लाई पद्धति जो आपको बना सकती है कामयाब ट्रेडर। ऊपर से तथास्तु! हर रविवार को लंबे निवेश की पुख्ता सलाह…

यहां की ट्रेडिंग एकदम ज़ीरो-सम गेम

 Posted by at 08:23  Comments Off on यहां की ट्रेडिंग एकदम ज़ीरो-सम गेम
Nov 192018
 

शेयर बाज़ार समेत किसी भी वित्तीय बाज़ार की ट्रेडिंग एकदम ज़ीरो-सम गेम है। यहां कोई गंवाता है, तभी कोई कमाता है। इसलिए हर दिन जितने लोग दुखी रहते हैं, उतने ही लोग खुश रहते हैं। यहां ऐसा नहीं कि हर कोई बढ़ने पर ही कमाता है। बहुत-से ऐसे लोग हैं जो बाज़ार के गिरने पर […]

जमे हैं एलआईसी और म्यूचुअल फंड

 Posted by at 08:18  Comments Off on जमे हैं एलआईसी और म्यूचुअल फंड
Nov 162018
 

हमारे शेयर बाज़ार में देशी संस्थाओं में दो सबसे खास नाम हैं एलआईसी और म्यूचुअल फंडों के। ताज़ा उपलब्ध आंकडों के मुताबिक 30 सितंबर 2018 के अंत में म्यूचुअल फंडों के पास बाज़ार में लगाने के लिए 22.04 लाख करोड़ रुपए थे। वहीं, रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक एलआईसी ने मार्च 2018 के अंत […]

संस्थाओं का खेल, चले नूराकुश्ती भी

 Posted by at 08:20  Comments Off on संस्थाओं का खेल, चले नूराकुश्ती भी
Nov 152018
 

व्यक्तियों से आगे बढ़ें तो शेयर बाज़ार असल में संस्थाओं का खेल है। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई या एफआईआई) और देशी निवेशक संस्थाओं (डीआईआई) की बाज़ार में अहम भूमिका है। इसके कैश से लेकर डेरिवेटिव सेगमेंट तक में वे हर दिन हज़ारों करोड़ रुपए लगाते हैं। एक बेचता तो दूसरा खरीदता है। यह अलग बात […]

रिटेल हैं भूले-भटके अनजान मुसाफिर

 Posted by at 08:21  Comments Off on रिटेल हैं भूले-भटके अनजान मुसाफिर
Nov 142018
 

सच कहें तो शेयर बाज़ार इफरात धनवाले अमीरों का क्लब है जिन्हें एचएनआई या हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स कहा जाता है। अकेले बीएसई में ये लोग हर दिन करीब 1000 करोड़ का धंधा करते हैं। खुद ब्रोकरेज हाउसों का धंधा प्रतिदिन 500 करोड़ रुपए से ज्यादा का है। एनएसई में यह आंकड़ा इसका पांच से दस […]

बाज़ार बेपरवाह, लाखों हैं यहां धनवाले

 Posted by at 08:23  Comments Off on बाज़ार बेपरवाह, लाखों हैं यहां धनवाले
Nov 132018
 

देश में प्रति परिवार औसत आय 16,480 रुपए/माह है। हम प्रति व्यक्ति आय में दुनिया के 188 देशों में 140वें नंबर पर है। लेकिन अपने यहां अमेरिका व चीन के बाद सबसे ज्यादा 119 डॉलर अरबपति हैं। यहां इस समय 3.43 लाख लोग ऐसे हैं जिनके पास 7.28 करोड़ रुपए से ज्यादा दौलत है। इन […]

कौन लगाते 4.50 लाख करोड़ दांव पर

 Posted by at 08:15  Comments Off on कौन लगाते 4.50 लाख करोड़ दांव पर
Nov 122018
 

हमारे शेयर बाज़ार में डिलीवरी आधारित कैश सेगमेंट में हर दिन 30,000 करोड़ रुपए का कारोबार, जबकि डेरिवेटिव सेगमेंट में हर दिन 4.15 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का कारोबार। आखिर जिस देश में 22% लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं और 80% लोग किसी तरह गुजारे लायक कमा पाते हैं, वहां आखिर कौन-से […]

साल मुबारक! अब आगाज़ ट्रेडिंग का

 Posted by at 08:16  Comments Off on साल मुबारक! अब आगाज़ ट्रेडिंग का
Nov 092018
 

संवत 2075 की पूरे दिन की पहली ट्रेडिंग। बीता संवत 2074 शेयर बाज़ार में बड़ी कंपनियों के लिए ठीक रहा, जबकि छोटी व मध्यम कंपनियों को मूल्य गंवाना पड़ा। इस दौरान सेंसेक्स कुल जमा 8% और निफ्टी 4% बढ़ा, लेकिन मिडकैप सूचकांक 8% और स्मॉलकैप सूचकांक 16% गिर गया, जबकि उससे पिछले साल ये दोनों […]

Nov 072018
 

हम हिंदुस्तानी कुछ ज्यादा ही उत्सवधर्मी हैं। खुशियां मनाने के खूब त्योहार बना रखे हैं। यहां तक खरीदने के भी अलग त्योहार हैं। धनतेरस, गुड़ी पड़वा, अक्षय तृतीया और न जाने क्या-क्या। दिवाली के त्योहार पर तो लक्ष्मी पूजन के बाद स्टॉक व कमोडिटी एक्सचेंज बाकायदा मुहूर्त ट्रेडिंग करते रहे हैं। आज बीएसई व एनएसई […]

धन का प्रवाह अटका तो बाज़ार लटका

 Posted by at 08:22  Comments Off on धन का प्रवाह अटका तो बाज़ार लटका
Nov 062018
 

इस समय महालक्ष्मी खुलकर चंचला नहीं हो पा रही हैं। अर्थव्यवस्था में धन का प्रवाह रुकने लगा है। परेशान होकर सरकार तक को रिजर्व बैंक से कहना पड़ा कि एनबीएफसी को नकदी संकट में न फंसने दे। यह संकट आईएल एंड एफएस के डिफॉल्ट से उभरा और अभी तक मिटा नहीं है। सरकार और रिजर्व […]

लक्ष्मी चंचला हैं तभी तक सब दुरुस्त

 Posted by at 08:14  Comments Off on लक्ष्मी चंचला हैं तभी तक सब दुरुस्त
Nov 052018
 

मिर्ज़ा गालिब कितना भी कहते फिरें कि रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं कायल, जो आंख ही से न टपका तो लहू क्या है। लेकिन लहू बहना छोड़कर टपकने या जमने लगे तो इंसान लहूलुहान होकर इस दुनिया तक को अलविदा कह सकता है। इसी तरह लक्ष्मी पर भले ही चंचला कहकर कितनी भी […]