निफ्टी की दशा-दिशा [बुधवार 26 जुलाई 2017] शुरुआती रुख⬆ सुबह: 8.05 बजे

पिछला बंद कल का उच्चतम कल का न्यूनतम कल का बंद संभावित दायरा
9966.40 10011.30 9949.10 9964.55 9935/10025

ताकि, मानसून में न फिसले कार-बीमा

Jul 212011
 

बरसात के मौसम में जैसे आपकी कार को खास देखभाल की जरूरत होती है, ठीक वैसे ही ज्यादा से ज्यादा फायदे के लिए कार इंश्योरेंस में भी आपको खास सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। बारिश का मौसम अपने साथ ताजगी के साथ कई तरह की मुसीबतें भी लेकर आता है। रास्ते पर जलभराव व गड्ढों की वजह से ट्रैफिेक जाम और एक्सीडेंट से वाहन मालिकों को दो-चार होना पड़ता है। इसलिए इस मौसम में आपको कार के साथ उसके इंश्योरेंस पर भी खास नजर रखने की जरूरत है।

सुरक्षित ड्राइविंग: सुरक्षित गाड़ी चलाने का नियम हर जगह और हर समय काम करता है। बारिश के मौसम में सडक़ पर हुए जलभराव व गड्ढों में अक्सर गाडिय़ां फंस जाती हैं। ऐसी हालत में सबसे ज्यादा नुकसान कार मालिकों का ही होता है। इसलिए ड्राइविंग सुरक्षित करें। आजकल बीमा कंपनियां आपकी कार का इंश्योरेंस और उसकी प्रीमियम राशि तय करते समय यह भी देखती हैं कि आप कितनी सुरक्षित ड्राइविंग करते हैं। आपकी ड्राइविंग बेदाग हो, तो आप बीमा प्रीमियम पर खास छूट भी हासिल कर सकते हैं। अगर आपकी ड्राइविंग मे एक्सीडेंट के मामले होंगे तो बीमा कंपनी आपसे ज्यादा प्रीमियम लेगी।

कागजात तैयार रखें: बरसात में फिसलन भरी सडक़ें आम हो जाती हैं। इसलिए बेहतर रहेगा कि आप जब भी अपनी गाड़ी सड़क पर निकालें, आपके पास बीमा कंपनी का हेल्पलाइन नंबर और पॉलसी के कागजात रहने ही चाहिए और साथ ही कंपनी के नेटवर्क गैरेज की लिस्ट भी आप अपने पास रखें। इससे आपको रिपेयरिंग वगैरह कराने में सुविधा रहेगी। क्या पता कब इनकी जरूरत पड़ जाए!

सुरक्षा उपकरण: देश के चार महानगरों – नई दिल्ली, कोलकाता, मुंबई व चेन्नई में पिछले साल कराए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि मानसून के मौसम में गाडिय़ों की चोरियां बढ़ जाती हैं और इस मौसम में उनके एक्सीडेंट की संख्या में भी इजाफा हो जाता है। लिहाजा आप अपनी गाड़ी व खुद की हिफाजत के लिए जितने अधिक उपाय करेंगे, उतना ही बेहतर रहेगा। एंटी थेफ्ट अलार्म, एअरबैग, एंटी लॉक ब्रेक आदि सुरक्षा उपकरणों के लिए इंश्योरेंस कंपनियां कार इंश्योरेंस पर बीमा प्रीमियम भी कम लेती हैं। यानी, सुरक्षा उपकरण आपकी सुरक्षा तो करते ही हैं, आपको आर्थिक फायदा भी दिलाते हैं। यह एक प्रकार से दोहरा फायदा होता है।

प्रोफेशनल छूट: कुछ बीमा कंपनियां कुछ श्रेणी के प्रोफेशनल्स, जैसे डॉक्टर, सीए, एडवोकेट व टीचर आदि को उनकी कार का इंश्योरेंस कराने पर प्रीमियम में छूट भी देती हैं। दरअसल बीमा कंपनियों का यह मानना है कि ऐसे प्रोफेशनल अत्यंत सवाधानी से कार चलाते हैं। लिहाजा अपनी कार का इंश्योरेंस कराने से पहले अपने एजेंट या बीमा सलाहकार से इस बारे में चर्चा कर लें और ऐसी छूट देने वाली बीमा कंपनी से ही पॉलिसी खरीदें।

नो क्लेम बोनस: चूंकि मानसून के मौसम गाडिय़ों के एक्सीडेंट होने की घटनाओं में बढ़ोतरी आ जाती है, इसलिए एक कार मालिक के रूप में आपको नो-क्लेम बोनस के गणित से भी अच्छी तरह परिचित होना जरूरी है। आपके लिए सबसे अच्छी सलाह यह रहेगी कि आप छोटे-मोटे क्लेम करने से बचें। इससे आप आगे चलकर नो क्लेम बोनस का फायदा भी ले सकते हैं।

अच्छे मेंटेनेंस का फंडा: आपकी कार एकदम अच्छी कंडीशन में होनी चाहिए ताकि आपका हर सफर खुशगवार हो। साथ ही ऐसी अच्छी कंडीशन वाली कार के इंश्योरेंस प्रीमियम में आप बीमा कंपनी से भी छूट ले सकते हैं। साथ ही अगर आप एक्सपायरी डेट से पहले ही अपना कार इंश्योरेंस रिन्यू कराते हैं तो आप उसके प्रीमियम पर लॉयल्टी डिस्काउंट भी हासिल कर सकते हैं। तो! हैप्पी मानसून। हैप्पी ड्राइविंग।

राजेश विक्रांत (लेखक मुंबई में कार्यरत एक बीमा प्रोफेशनल हैं)

 Leave a Reply

(required)

(required)