निफ्टी की दशा-दिशा [गुरुवार, 18 अप्रैल 2019] शुरुआती रुख⬆ सुबह: 8.10 बजे

पिछला बंद मंगल का उच्चतम मंगल का न्यूनतम मंगल का बंद संभावित दायरा
11690.35 11810.95 11731.55 11787.15 11745/11835

 

बाजार का रिटर्न है सरकार से स्वतंत्र

 Posted by at 08:18  Comments Off on बाजार का रिटर्न है सरकार से स्वतंत्र
Apr 182019
 

बीएसई सेंसेक्स 1 जनवरी 1980 से 31 दिसंबर 2018 के बीच 118 से 36,068 पर पहुंच गया। 39 सालों में 306 गुना। 15.8% सालाना चक्रवृद्धि दर। अर्थव्यवस्था से ज्यादा बढ़ा। पर अलग-अलग साल को देखें तो उसने गठबंधन सरकार में सबसे ज्यादा और सबसे कम रिटर्न दोनों दिए हैं। एकदलीय सरकार में भी यही हाल […]

जीडीपी 110 गुना, बाज़ार बढ़ा ज्यादा

 Posted by at 08:20  Comments Off on जीडीपी 110 गुना, बाज़ार बढ़ा ज्यादा
Apr 162019
 

भारतीय अर्थव्यवस्था 1980 के बाद 39 सालों में अब तक बराबर बढ़ती रही है। अगर हम उसकी विकास दर से मुद्रास्फीति की दर न घटाए और उसे सम-मूल्य पर लें तो वह अगर 1980 में 100 रुपए की थी तो अब 11,000 रुपए की हो चुकी है। 110 गुनी वृद्धि, 12.8% की सालाना चक्रवृद्धि दर। […]

चुनावों का दूसरा चरण, धुकधुकी बढ़ी

 Posted by at 08:14  Comments Off on चुनावों का दूसरा चरण, धुकधुकी बढ़ी
Apr 152019
 

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव का पहला चरण पूरा हो गया। इसमें बीस राज्यों की 91 सीटों पर वोट डाले गए। इस हफ्ते गुरुवार, 18 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान होना है। इसमें 13 राज्यों की 97 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। देश की धुकधुकी 23 मई को आनेवाले चुनाव नतीजों पर लगी हुई है। […]

चुनाव बाद जब सुधरेगा माहौल!

 Posted by at 10:10  Comments Off on चुनाव बाद जब सुधरेगा माहौल!
Apr 142019
 
चुनाव बाद जब सुधरेगा माहौल!

सारा देश चुनावों के राग में डूबा हुआ है। हर तरफ राजनीति का शोर। लेकिन ज़मीनी हकीकत यह है कि अभी तक हमारी अर्थव्यवस्था राजनीति की परवाह किए बिना बढ़ती रही है और उसी से जुड़ा है हमारा शेयर बाज़ार। हालांकि इधर चुनाव नतीजों की अनिश्चितता के बीच बाज़ार में छोटी कंपनियों के शेयर ज्यादा […]

भारत के पास भरपूर आंतरिक ताकत

 Posted by at 08:26  Comments Off on भारत के पास भरपूर आंतरिक ताकत
Apr 122019
 

भारतीय अर्थव्यवस्था की मूल ताकत उसका घरेलू बाज़ार और खपत है। यह बाज़ार इतना बड़ा है कि भारत को कहीं बाहर झांकने की ज़रूरत नहीं। इसलिए सही मायने में कहें तो भले ही दुनिया ग्लोबल हो गई हो और माल व सेवाओं के आयात-निर्यात की खास भूमिका हो, भारतीय लोग बाहर और बाहर के लोग […]

मजबूर सरकारें बेहतर होतीं मजबूत से

 Posted by at 08:17  Comments Off on मजबूर सरकारें बेहतर होतीं मजबूत से
Apr 112019
 

सवाल उठता है कि आर्थिक विकास को गति देने के मामले में गठबंधन की सरकारें आखिर एकदलीय सरकारों से बेहतर काम क्यों करती हैं? इसका एक कारण यह हो सकता है कि एकदलीय सरकार को अपनी सत्ता का दंभ होता है। इसलिए वो मुठ्ठी भर नेताओं के दिमाग या सत्ता समीकरण को साधने की नीयत […]

प्रचार व दावों के शोर में क्या है सच!

 Posted by at 08:13  Comments Off on प्रचार व दावों के शोर में क्या है सच!
Apr 102019
 

मोदीराज में आर्थिक विकास दर का 39 सालों की औसत दर से कम रहना साबित करता है कि एकदलीय सरकारों की उपलब्धि गठबंधन सरकारों से खराब रही है। हम पाते हैं कि केंद्र में 1980 के बाद चार में से चार एकदलीय सरकारों का प्रदर्शन कमतर रहा, जबकि छह में से तीन गठबंधन सरकारों ने […]

मोदीराज में विकास है औसत से कम

 Posted by at 08:22  Comments Off on मोदीराज में विकास है औसत से कम
Apr 092019
 

मोदी सरकार है तो गठबंधन सरकार। लेकिन चूंकि भाजपा ने 2014 के चुनावों में अपने दम पर पूरा बहुमत पाया और चुनाव-पूर्व गठबंधन का कोई सदस्य इसके मंत्रिमंडल में नहीं है, इसलिए हम इसे एकदलीय सरकार मान सकते हैं। इसके कार्यकाल में औसत आर्थिक विकास दर नई सीरीज के मुताबिक 7.4% रही है जो पहले […]

अर्थव्यवस्था के लिए गठबंधन अच्छा

 Posted by at 08:09  Comments Off on अर्थव्यवस्था के लिए गठबंधन अच्छा
Apr 082019
 

पिछले 39 सालों में केंद्र में शासन करनेवाली दस सरकारों में से सात गठबंधन की मिलीजुली सरकारें थीं। इनमें से छह सरकारों ने उन तीन सरकारों से ज्यादा आर्थिक विकास दर हासिल की जो किसी एक दल के बहुमत में चलाई जा रही थीं। केवल दिसंबर 1989 से जून 1991 तक, जब केंद्र में विश्वनाथ […]

गली-गली में फैली उद्यमशीलता

 Posted by at 07:05  Comments Off on गली-गली में फैली उद्यमशीलता
Apr 072019
 
गली-गली में फैली उद्यमशीलता

भारत में उद्यमशीलता की कोई कमी नहीं। हमारे नगरों-महानगरों की छोटी-छोटी गलियों में आपको इसकी झलक मिल जाती है। न जाने कितने चरणों में अपना माल बनवाकर छोटी कंपनियां बडे ग्राहकों तक पहुंचाती हैं। यही छोटी कंपनियां एक दिन बड़ी बन जाती हैं तो उनके मूल्य का कोई ठिकाना नहीं रहता। हम आज तथास्तु में […]