निफ्टी की दशा-दिशा [गुरुवार 18 जनवरी 2018] शुरुआती रुख⬆ सुबह: 8.05 बजे

पिछला बंद कल का उच्चतम कल का न्यूनतम कल का बंद संभावित दायरा
10700.45 10803.00 10666.75 10788.55 10765/10845

ब्रेकआउट की रणनीति है बहुत रिस्की

 Posted by at 08:20  Comments Off on ब्रेकआउट की रणनीति है बहुत रिस्की
Jan 182018
 

बढ़ते बाज़ार में लहरों के हिसाब से नीचे आने पर खरीदने का सौदा बहुत कारगर नहीं होता। जब शेयर बराबर नया उच्चतम स्तर बना रहे हों, तब ब्रेकआउट ट्रेड ही सबसे कारगर रणनीति होती है। रोज़ाना के भावों के चार्ट पर उठते त्रिभुज का पैटर्न ब्रेकआउट की दस्तक देता है, लेकिन किसी भी हालत में […]

ट्रेडिंग रोक निवेश करने में कोई हर्ज!

 Posted by at 08:14  Comments Off on ट्रेडिंग रोक निवेश करने में कोई हर्ज!
Jan 172018
 

जब बाज़ार चढ़ान पर हो तो गिरे हुए शेयरों में ट्रेड करना अक्सर घाटे का सौदा साबित होता है। यह अलग बात है कि कंपनी का बिजनेस मॉडल तगड़ा हो और वो हर कोण से मजबूत हो तो देर-सबेर उसके शेयर का बढ़ना तय है। ऐसा ही हाल इस समय तमाम फार्मा कंपनियों का है। […]

जो गिरा उठता नहीं, बढ़ा गिरता नहीं

 Posted by at 08:16  Comments Off on जो गिरा उठता नहीं, बढ़ा गिरता नहीं
Jan 162018
 

मानते हैं कि जो चढ़ा है, वह गिरेगा ज़रूर। लेकिन शेयर बाजार में यह धारणा पूरी तरह लागू नहीं होती। मजबूत कंपनियों के शेयर चढ़े तो चढ़ते चले जाते हैं, जब तक उनमें कोई बहुत खराब खबर नहीं आती। कमज़ोर कंपनियों के शेयर भी सटोरियो के हाथ से चढ़े तो गिरने में बहुत वक्त लगाते […]

हाल निराला, सभी चढ़ बैठे आकाश!

 Posted by at 08:12  Comments Off on हाल निराला, सभी चढ़ बैठे आकाश!
Jan 152018
 

हमारे शेयर बाज़ार का हाल इस समय निराला है। हर दिन औसतन 150-200 कंपनियों के शेयर 52 हफ्ते का नया उच्चतम स्तर बना रही है तो मात्र 5-10 न्यूनतम स्तर। मसलन, शुक्रवार को एनएसई में 146 शेयरों ने नया शिखर बनाया तो केवल चार ने तलहटी पकड़ी, वो भी बेहद झंडू-झाप स्क्रिप्स ने। ऐसे में […]

बड़े नाजुक संतुलन से गुजरता बाज़ार

 Posted by at 08:13  Comments Off on बड़े नाजुक संतुलन से गुजरता बाज़ार
Jan 122018
 

शेयर बाज़ार में विदेशी संस्थाओं व एलआईसी से ज्यादा निवेश म्यूचुअल फंडों ने कर रखा है। म्यूचुअल फंडों में ज्यादातर रिटेल निवेशक ही नामा लगाते हैं। यह भी सच है कि वे जितनी तेज़ी से बाज़ार में घुसते हैं, उतनी ही तेज़ी से बाहर भी निकलते हैं। ज़रा-सी विपरीत हलचल उनमें घबराहट का तूफान पैदा […]

दुविधा में कितना चमकेगा नया साल!

 Posted by at 08:09  Comments Off on दुविधा में कितना चमकेगा नया साल!
Jan 112018
 

कमोबेश सभी विशेषज्ञ मानते हैं कि साल 2018 में शेयर बाज़ार पिछले कुछ सालों जितना तेज़ नहीं रहने जा रहा। एक वजह तो यह है कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक अब शेयरों से ज्यादा सरकारी या कॉरपोरेट ऋण को अहमियत देने लगे हैं। दूसरी वजह है कि मार्च से राज्यों के चुनावों का जो सिलसिला शुरू […]

Jan 102018
 

अर्थव्यवस्था की हालत खराब। कंपनियों के नतीजे भी कुछ उत्साह बढ़ाने वाले नहीं हैं। फिर भी शेयर बाज़ार कुलांचे मारता जा रहा है। निफ्टी व सेंसेक्स रोज़ नए ऐतिहासिक शिखर बना रहे हैं। वजह है कि विदेशी फंड, देशी म्यूचुअल फंड और एलआईसी जैसी संस्थाएं शेयर बाज़ार में खरीद पर खरीद किए जा रही हैं। […]

अर्थव्यवस्था नीचे, बाज़ार जाता ऊपर!

 Posted by at 08:12  Comments Off on अर्थव्यवस्था नीचे, बाज़ार जाता ऊपर!
Jan 092018
 

शेयर बाज़ार मूलतः अर्थव्यवस्था का आईना होता है। खुद सरकार के मुताबिक, इस साल अर्थव्यवस्था की विकास दर पिछले चार सालों में सबसे खराब रहेगी। 2017-18 में जीडीपी के 6.5% बढ़ने का अनुमान है, जबकि 2016-17 में यह 7.1%, 2015-16 में 8% और 2014-15 में 7.5% बढ़ा था। यह नीतिगत लकवे की शिकार यूपीए सरकार […]

बाहर छिटक जाता है बाज़ार का सच

 Posted by at 08:14  Comments Off on बाहर छिटक जाता है बाज़ार का सच
Jan 082018
 

हम कितना भी ज्ञान हासिल कर लें, अपनी नज़र बहुत-बहुत व्यापक बना लें, लेकिन संपूर्ण सच हमारी पकड़ से हमेशा बाहर ही छिटक जाता है। शेयर बाज़ार पर यह नियम कुछ ज्यादा ही लागू होता है क्योंकि वह तर्कों से ज्यादा लाखों लोगों की लालच व डर जैसी स्थूल भावनाओं से नियंत्रित होता है। इन […]

ज्यादातर रिटेल ट्रेडर क्यों हैं घाटे में!

 Posted by at 08:12  Comments Off on ज्यादातर रिटेल ट्रेडर क्यों हैं घाटे में!
Jan 052018
 

दिक्कत यह है कि अपने यहां आर्थिक आंकडों का घनघोर अकाल है। मुद्रास्फीति या औद्योगिक उत्पादन को छोड़ दें तो हम बहुत सारे आंकड़ों मे बहुत-बहुत पीछे चलते हैं। इसलिए बहुत सारे काम में अंदाज़ चलता है। ऐसा ही एक अंदाज़ है कि शेयर बाज़ार के लगभग 95% ट्रेडर घाटा उठाते हैं, जबकि बमुश्किल 5% […]